Hindi Poem: बचपन के खेल खिलौने by Usha Rani Bansal

Hindi Poem: बचपन के खेल खिलौने by Usha Rani Bansal

0 299
Children Playing
बचपन में हम इक्कड दुक्कड, सटापू,
गिल्ली डंडा, कंचे , गिट्टे , चूड़ी के टुकड़ों,
से खेलते थे।
छप्पन-छुपाई ,चोर – सिपाही ,खम्भा- खम्भा ,
मिल मिल कर खेलते थे,
कभी झूला झूलते, कभी पेंग बढ़ाते, रस्सी कूदते ,
कभी कभी पतंग उड़ाते, पतंग काट कर ताली बजाते,
कीरम – काटी खेलते खेलते शाम कर लेते,
तब भी न जीत पाते, न हारते थे।
पेड़ों पर चढ़कर, कभी आम ,
कभी कच्चे पक्के फल खाते ।
कुछ बडे हुए तो लूडो, चाइनीज़ चेकर ,
कैरम, फिर व्यापार खेलने,
खेल खेल में हारने पर लड़ने,रोने लगे ,
कट्टी- मिली का दौर शुरु हो गया ।
बड़ी क्लास में पहुँचे तो –
लेझियम, डम्बल, बैडमिंटन, बालिबॉल,
बास्केटबॉल आदि खेलने लगे,
किराये की साईकिल ला कर ,
साईकिल चलाने लगे,
खो खो, लगंडी टाँग,कोड़ा जमारशाही ,
ताश पत्ते भी खेलने लगे,
लूडो, कैरम, व्यापार, चाइनीज़ चैकर भी,
खेलो में शामिल हो गये, बड़े होने के साथ –
बचपन के खेल धीरे धीरे छूट गये।
नये दौर में-
बालिवुड के गानों पर अंताक्षरी खेलने,
सिनेमा देखने, कवि सम्मेलन व नाटकों को देखने,
उपन्यास, पत्रिकायें पढ कर समय बिताने लगे ।
धीरे धीरे सब खेल पीछे छूट गये ,
समय बिताना कठिन होने लगा ।
बच्चे बडे हो गये ,
विदेशों में जाकर बस गये,
अब बच्चों से मिलने विदेश जाने लगे,
समय बिताने के लिये समय बेसमय
Walking करने लगे ।
वहाँ के बच्चों को दो या तीन पहियों का स्कूटर,
स्केट बोर्ड , स्केटिंग करते देख
हुल्लाहुक पर कमर नचाते ,
तरह तरह के साधनों से ,तरह तरह के खेल खेलते देखते तो –
मन एक बार सब खेलने को मचलने लगता।
कभी कभी बच्चों के बच्चों को
अपने बचपन ,साथी – संगियों ,
बचपन के खेलो के बारे में बताते ,
तो- वह पूछँते तब हम कहाँ थे ?
बडी आह भर कर कहते
कि काश ! हम भी वो सब जी पाते,
आप के कितने मज़े थे।
पर समय कहां रुकता है,
जो आज का खेल है,
कल पुराना हो जाता है,
जीवन हर पल आगे आगे बढ़ता जाता है।

Subscribe to Newsletter

NO COMMENTS

Leave a Reply

*

*

*

4 × three =

*